WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

गुरु पूर्णिमा कब है 2024: गुरु पूर्णिमा शुभ मुहूर्त, पूजा विधि, गुरु मंत्र देखें | Guru Purnima Kab Hai 2024

गुरु पूर्णिमा कब की है: गुरु पूर्णिमा, ज्ञान और मार्गदर्शन का पर्व, सनातन धर्म में एक महत्वपूर्ण त्योहार है। यह पर्व आषाढ़ माह की पूर्णिमा तिथि को मनाया जाता है, जो इस वर्ष 21 जुलाई 2024 रविवार को है। यह दिन गुरुओं को सम्मानित करने, उनके ज्ञान का आभार व्यक्त करने और उनके आशीर्वाद से जीवन को समृद्ध बनाने का दिन है। आइए, Guru Purnima Kab Hai, गुरु पूर्णिमा के शुभ मुहूर्त और पूजा विधि के बारे में जानते हैं।

ये भी देखें:- शांतिकुंज हरिद्वार रजिस्ट्रेशन कैसे करें

गुरु पूर्णिमा कब है 2024 | Guru Purnima Kab Hai

Guru Purnima 2024, ज्ञान और मार्गदर्शन का पर्व, हर साल आषाढ़ पूर्णिमा को मनाया जाता है। यह दिन हमारे जीवन में गुरुओं के योगदान को याद करने और उनके आशीर्वाद से जीवन को समृद्ध बनाने का अवसर है। गुरु पूर्णिमा न केवल शिक्षकों का सम्मान करने का दिन है, बल्कि हमारे जीवन में मार्गदर्शन देने वाले सभी बड़ों को धन्यवाद देने का भी अवसर है। इस दिन गुरुजनों की पूजा, मंत्र जाप और भगवान शिव की आराधना करने से समस्त परेशानियों का निवारण होता है। आइए, गुरु पूर्णिमा के बारे में और जानते हैं, विशेषकर इस साल यह पर्व कब मनाया जाएगा।

गुरु पूर्णिमा शुभ मुहूर्त | Guru Purnima Shubh Muhurat

इस वर्ष, गुरु पूर्णिमा का पावन पर्व 21 जुलाई 2024 को मनाया जाएगा। यह शुभ अवसर 20 जुलाई की शाम 5:59 बजे से शुरू होगा और 21 जुलाई की दोपहर 3:46 बजे तक चलेगा। इस अवधि में गुरुओं का आशीर्वाद प्राप्त करने और उनके प्रति कृतज्ञता व्यक्त करने का यह सुनहरा अवसर है।

गुरु पूर्णिमा पूजा विधि | Guru Purnima Puja Vidhi

  • सुबह जल्दी उठकर स्नान करें और साफ कपड़े पहनें। घर को साफ-सफाई करें और पूजा स्थल को सजाएं।
  • “ओम गुरु ब्रह्मा गुरु विष्णु गुरु देवो महेश्वरा। गुरु साक्षात परब्रह्मा तस्मै श्री गुरुवे नमः।” का जाप करें। ध्यान केंद्रित करें और गुरु के प्रति कृतज्ञता का भाव रखें।
  • फूल, धूप, दीप, फल, मिठाई, और गुरु के चित्र या मूर्ति की आवश्यकता होती है। यदि गुरु जीवित हैं, तो उन्हें उपहार देना भी शुभ माना जाता है।
  • गुरु के चित्र या मूर्ति को साफ कपड़े से ढककर पूजा स्थल पर स्थापित करें। फूल, धूप, दीप, फल, और मिठाई अर्पित करें। गुरु मंत्र का जाप करें और गुरु के प्रति श्रद्धा और सम्मान व्यक्त करें। गुरु से आशीर्वाद मांगें और उनका मार्गदर्शन प्राप्त करने की कामना करें।
  • यदि गुरु जीवित हैं, तो उनसे मिलकर उनके चरण स्पर्श करें और आशीर्वाद प्राप्त करें। यदि गुरु जीवित नहीं हैं, तो उनके चित्र या मूर्ति को प्रणाम करें और उनके प्रति श्रद्धा व्यक्त करें।
  • गरीबों और जरूरतमंदों को भोजन दान करें।
  • गुरु के प्रति कृतज्ञता का भाव रखें और उनके द्वारा दिए गए ज्ञान और मार्गदर्शन का आभार व्यक्त करें।
  • गुरु के बताए मार्ग पर चलने का संकल्प लें और उनके आदर्शों को अपने जीवन में लागू करने का प्रयास करें।

गुरु मन्त्र | Guru Mantra

गुरुर्ब्रह्मा, गुरुर्विष्णु गुरुर्देवो महेश्वर:। 

गुरुर्साक्षात् परब्रह्म तस्मै श्री गुरुवे नमः:।। 

गुरु मंत्र का 

अर्थ: गुरु ही ब्रह्मा है, गुरु ही विष्णु है, गुरु ही महादेव है, गुरु ही साक्षात भगवान है, ऐसे परम् ज्ञानी श्री गुरु को मेरा प्रणाम है।

गुरु पूर्णिमा कैसे मनाई जाती है?

गुरु पूर्णिमा, एक ऐसा पर्व है जो गुरु-शिष्य के पवित्र बंधन को मनाता है, जहां शिष्य आभार व्यक्त करते हैं और गुरु का आशीर्वाद पाने के लिए तरसते हैं। यह दिन न केवल गुरुओं का सम्मान करता है, बल्कि ज्ञान और आध्यात्मिक विकास के प्रति समर्पण को भी दर्शाता है। व्यास पूर्णिमा के नाम से भी जाना जाने वाला यह पर्व, महर्षि वेद व्यास के जन्म को याद करता है, जिन्हें दुनिया का पहला गुरु माना जाता है। इस दिन, योग साधना और ध्यान के माध्यम से आंतरिक शांति प्राप्त करना और गुरु मंत्रों का जाप करते हुए, वेद व्यास की कृपा प्राप्त करना, सच्चा आनंद प्रदान करता है।

FAQ | Guru Purnima Kab Hai

1. गुरु पूर्णिमा क्यों मनाई जाती है?

उत्तर: गुरु पूर्णिमा गुरु-शिष्य संबंधों का सम्मान करने के लिए मनाई जाती है। यह दिन गुरुओं को धन्यवाद देने और उनके मार्गदर्शन के लिए आभारी होने का अवसर है।

2. गुरु पूर्णिमा पर क्या करें?

उत्तर: गुरु पूर्णिमा पर, अपने गुरु को सम्मानित करें, उनके साथ समय बिताएं, उन्हें उपहार दें, और उनके बताए मार्ग पर चलने का संकल्प लें।

3. गुरु पूर्णिमा पर क्या न करें?

उत्तर: गुरु पूर्णिमा पर, अपने गुरु का अपमान न करें, उनसे झूठ न बोलें, और उनके बताए मार्ग से भटकने का प्रयास न करें।

4. गुरु पूर्णिमा का महत्व क्या है?

उत्तर: गुरु पूर्णिमा का महत्व गुरु-शिष्य संबंधों को मजबूत करने में है। यह दिन हमें याद दिलाता है कि हमारे जीवन में गुरुओं का कितना महत्वपूर्ण योगदान है।

5. गुरु पूर्णिमा पर क्या खाएं?

उत्तर: गुरु पूर्णिमा पर, अपने गुरु के साथ भोजन करें, उन्हें मिठाई दें, और उनका आशीर्वाद लें।

6. गुरु पूर्णिमा पर क्या पहनें?

उत्तर: गुरु पूर्णिमा पर, साफ-सुथरे कपड़े पहनें और अपने गुरु के प्रति सम्मान व्यक्त करें।

Leave a Comment